Sunday, April 18, 2010

बदलते वक़्त का ...


बदलते वक़्त का इक सिल _सिला सा लगता है
के जब भी देखो उसे दूसरा -सा लगता है ,


तुम्हारा हुस्न किसी आदमी का हुस्न नहीं
किसी बुज़ुर्ग की सच्ची दुआ सा लगता है ,


तेरी निगाह को तमीज़ रंग -ओ -नूर कहाँ
मुझे तो खून भी रंग-ऐ -हिना सा लगता है ,


दमाग - ओ -दिल हों अगर मुतमईन तो छाओं है धूप ,
थपेड़ा लू का भी ठंडी हवा सा लगता है ।


(मुतमईन - content/ satisfied)

- Manzar Bhopali

No comments:

Post a Comment