Wednesday, April 21, 2010

सफ़र में मुश्किलें ...

सफ़र में मुश्किलें आयें तो जुर्रत और बढती है ,
कोई जब रास्ता रोके तो हिम्मत और बढती है ,
मेरी कमजोरियों पर जब कोई तन्कीत करता है ,
वोह दुश्मन क्यों न हो , उस से मोहब्बत और बढती है ,
अगर बिकने पर आ जाओ तो घट जाते हैं दाम अक्सर ,
न बिकने का इरादा हो तो कीमत और बढती है ।

This is one of my most favourite Sher by Nawaz Deobandi. Its highly inspiring, motivating and thought provoking...It has got a message for the life , if read and understood deeply..I was over the moon when i read it for the first time.

No comments:

Post a Comment